गुरुवार, 16 फ़रवरी 2017

बुधवार, 15 फ़रवरी 2017

टेटकी टूरी

टेटकी हे टूरी ,,
जीन्स टाइट लेवाइस
बग्ग बग्ग चिमके,,,
छुटे सैटेलाइट,,
फट ले सिग्नल मारे,,,

करारी हे कन्हिया ,,
तेमा बेल्ट फनफनिया
गदर तोर बण्डी
जरत ले  घमंडीन
डियो ममहावत हे,,

जमाना के झांकी

रविवार, 12 फ़रवरी 2017


सत्ता है अलबत्ता
मीठी मधु का छत्ता
जिसे चुना वो तो रसपान करेगा
चुनने वाले
सेवा का मौका

बुधवार, 1 फ़रवरी 2017

धन बरसेगा

इकानामिक्स टाइम्स में पढ़ा समारू
धन बरसेगा,,,
खेत बिछा कर बैठ गया वो
धन बरसेगा,,,
धान ऊगा कर,, सोंच रहा था
धन बरसेगा,,,?
बादल गरजे,,बूंदाबांदी कर गुजर गए
मेडों को थोड़ा भिगा कर,, शहर गऐ
बादल देख कर चिढ़ता है,,
समारू ,,अब फिर से देशबन्धु पढता है!!!
समझ गया है
झँट बरसेगा

सोमवार, 19 दिसंबर 2016

कार्यपालक दंडाधिकारी या डंडाधिकारी ,,माने दण्ड देते हुए कार्य का पालन करवाने वाला अधिकारी,, दंडा अधिकारी अब्राहम लिंकन की लोकतंत्र की परिभाषा को मायने प्रदान करता है यानि जनता को कंही भी,, कैसे भी और कितना भी दिया जाने वाला दण्ड,,,दंडाधिकारी मल्टीबेरल मिसाइल की तरह होता है यानि एक बार छूटा तो कई लक्छ ध्वस्त,जंहा ला एंड ऑर्डर पर खतरा दंडाअधिकारी को महसूस हुआ, ,वो लॉ को,,,,च ला,,,,कर देता है,,और एक साथ आंसू गैस ,,डंडा और गोली चलने लगती है ,,,इसे कहते है ऑर्डर,,,
            अधिकारी के ऑर्डर मात्र से 144 की धारा बहने लगती है,,,डंडा खाकर  गिरे हुए एम्बुलेंस में जाते है ,,और घायल धारा 151 से होते हुए जेल की गाडी में
,,अस्पताल में घायल व्यक्ति भी डंडाधिकारी के भय में अपना शव पंचनामा करवा लेते है वंही,,, मुर्दे ,,मृत्यु पश्चात कथन देने लगते है,,,अंततः अधिकारी कई फौती नामान्तरण करके ही वापस आता है,,इस तरह दण्डा धिकारी ,,साक्छात चलता फिरता जनसमस्या निवारण शिविर है,,जो जन ,का ,गन से निवारण करते चलता है,,,

बुधवार, 14 दिसंबर 2016

किस्मत ने जिस दिन नौकरी थमाई
खुद के कोर्ट में,,मेरा इश्तगासा ले आई
जमानत खुद का ,,खुद को मंजूर नही
कैद रहो अनुभव,,अभी दूर है रिहाई!

मंगलवार, 13 दिसंबर 2016

मतदाता सूची

एक थी मतदाता सूची,,और
उसकी बेटी त्रुटि
जो रहती रूठी,,
पर युक्ति युक्त नही होती
त्रुटि जाती भाग ,,
किसी अनुभाग,,
छेड़ते राग,,
कभी दुरुस्त नही होती
आखिर मम्मी ने लगाई डाँट
पढो अच्छे से ,,छः सात आठ
साल भर पाठ,,बाँध लो गाँठ,,
बिन उसके कोई सूचि
तंदुरुस्त नही होती,,,,